Shayari on Black Saree | Black Saree Quotes

Shayari on Black Saree. साडी एक ऐसा भारतीय परिधान है जिसपर ना जाने कितनी बातें लिखी गयी| चाहे फिल्मों का कोई गाना हो या किसी शायर की शायरी, ब्लैक साडी हमेशा उसका केंद्र रही है| ब्लैक साडी में किसी महिला की खूबसूरती और निखर आती है| फिल्मों या टीवी पर आपने अदाकारों को ना जाने कितनी बार ब्लैक साडी में देखा होगा और उनकी खूबसूरती की तारीफ़ भी की होगी| हुजुर तो फिर आपकी गर्लफ्रेंड या पत्नी का क्या कसूर है, उनकी भी तारीफ़ कीजिये| आज के बाद अगर वो भी ब्लैक साडी पहने तो आप उनकी तारीफ़ कुछ शायराना अंदाज में कीजिये और आपकी मदद के लिए हम इस पोस्ट में ब्लैक सारे के ऊपर कई कोट्स और स्टेटस लेकर आये है| इस पोस्ट में आपको Shayari on Black Saree, Black Saree Quotes in Hindi पढने को मिलेगी तो इसे अंत तक जरुर पढ़ें|

Shayari on Black Saree

Shayari on Black Saree

यूँ तो हर कपडे में सुन्दर दिखती हो
पर काली साडी में हद पार कर देती हो

ना जाने कितने दिलों का वो क़त्ल करने आई है
एक हसीना काली साडी पहनकर आई है

काली साडी की खूबसूरती एक तरफ
औ माँ की पुरानी साडी की खूबसूरती एक तरफ

गजब हो तुम, ये नखरे तुम्हारे बवाल
पहनती हो तुम जब काली साडी, लगती हो कमाल

काली साडी में ये कातिलान मुस्कान
क्या सच में ले लोगी मेरी जान

चेहरे पर मुस्कान तेरी और भी कमाल होती है
जब काली साडी पर तेरी बिंदी भी काली होती है

मुझे क़यामत देखनी है
क्या तुम ब्लैक साडी पहनकर मुझसे मिलने आओगी

की बेरंग महफ़िलों में भी वो जान भर गयी
काली साडी में वो कत्लेआम कर गयी

क़यामत तो नहीं देखी पर उसे काली साडी में देखा है

एक तो काली साडी ऊपर से गालों पर तिल
आगि बढ़ेगी ये मोहब्बत या जल जाएगा ये दिल

Black Saree Quotes in Hindi

Black Saree Quotes in Hindi

आज भी उतनी ही खुबसूरत दिखती हो काली साडी में
ये बात और है की अब हमें निहारने की इजाजत नहीं है

काली साडी में उनकी एक झलक क्या देखि
इन आँखों ने पलक झपकाना ही बंद कर दिया

काली साडी ऊपर से रंग तुम्हारा गोरा
जैसे काली रात में हो जैसे चाँद कोई चकोरा

कितनी सुन्दर लगती है वो नारी
जिसने पहन राखी हो काली साडी

काली साडी पहनकर जब तुम आती हो
सबके दिलों पर फिर कहर ढाती हो

काली साडी में कैसी लगती हूँ, वो पूछी अपनी जान से
आशिक बोला हिरा निकल रहा हो जैसे कोयले की खान से

क़यामत पर कयामत आई है, आज ना जाने किसकी मौत आई है
मेरी जान आज फिर काली साडी पहनकर आई है

एक तो तेरा रंग गोरा, दूजा उसपर साडी काली
उसपर भी क्या खूब क़यामत ढा रही है मेरे दिल पर तेरे होंठों की लाली

तड़प उठा मेरा दिल उसे देखने के लिए
जब उसने कहा की कल मैं काली साडी पहनूंगी

वो काली साडी पहनकर जब आती थी
सारी कायनात ही संवार लेती थी

Shayari on Black Saree

Leave a Comment

Copy link
Powered by Social Snap